एक नज़र भारत में हुए बड़े घोटालों पर

प्राचीन काल में भारत को सोने की चिड़िया इसलिए कहा जाता था क्योंकि भारत में काफी धन सम्पदा मौजूद थीI परन्तु आज भारत कर्ज तले दबा हुआ है, जानते हो इसकी मुख्य वजह है घोटालाI 16वीं शताब्दी में भारत की प्रति व्यक्ति जीडीपी 1305 अमेरिकी डॉलर थी जो कि उस समय अमेरिका, जापान, चीन और ब्रिटेन से भी कही अधिक थीI केंद्र सरकार के 2021-22 के नवीनतम आंकड़ों से पता चलता है कि भारत की प्रति व्यक्ति आय लगभग 1,258 डॉलर (93,973 रुपए) है जो 2017-2018 के स्तर से भी कम है।

image courtesy: zeenews

भारत में हुए बड़े घोटालों पर एक नज़र

  1. जीप खरीदी (1948)
  2. साइकिल आयात (1951)
  3. मुंध्रा मैस (1958)
  4. तेजा ऋण (तेजा ऋण)
  5. पटनायक मामला (1961)
  6. मारुति घोटाला: इंदिरा गांधी और राजीव गांधी
  7. कुओ ऑयल डील (1976)
  8. अंतुले ट्रस्ट (1981)
  9. एचडीडब्लू दलाली (1987)
  10. बोफोर्स घोटाला (1987)
  11. सिक्योरिटी स्कैम (1992)
  12. इंडियन बैंक (1992)
  13. चारा घोटाला (1996)
  14. तहलका (15 डिफेंस डील में काफी घपलेबाजी)
  15. स्टॉक मार्केट (2002)
  16. स्टांप पेपर स्कैम (मास्टरमाइंड अब्दुल करीम तेलगी)
  17. सत्यम घोटाला (2008)
  18. मनी लांडरिंग (2009)
  • बोफर्स घोटाला- 64 करोड़ रु.
  • एच.डी. डब्ल्यू सबमरीन- 32 करोड़ रु.
  • स्टाक मार्केट घोटाला- 4100 करोड़ रु.
  • एयरबस घोटाला- 120 करोड़ रु.
  • चारा घोटाला- 950 करोड़ रु.
  • दूरसंचार घोटाला-1200 करोड़ रु.
  • यूरिया घोटाला- 133 करोड़ रु.
  • सी.आर.बी- 1030 करोड़ रु.
  • केपी- 3200 करोड़ रु.

भारत में और भी कई घोटाले हुए है जो सरकारी तंत्र और ऑफिसर्स की मिलीभगत से ही संभव हो सकता है या यू कह सकते है की लचीला और सुस्त कार्यप्रणाली घोटाला करने का अवसर प्रदान करती हैI

अपनी राय जरूर साझा करें,

धन्यवाद् !!

Leave a Reply